Home - Recent Posts (show/hide)

header ads

Interesting Facts about Nil cow in hindi.नीलगाय से जुड़े रोचक तथ्य

Amazing facts about Nil cow in hindi 

Interesting Facts about Nilcow in hindi

Nil cow facts
Nil cow facts 

Amazing facts about Nil cow in hindi ~ 

दोस्तों नीलगाय एक ऐसा गाय है जो कि दिखने में बिल्कुल ही अजीब है। वैसे तो नीलगाय इस प्राणी के लिए कुछ उपयोग सही नाम नहीं है। क्योंकि फीमेल नीलगाय भूरे रंग की होती है जबकि मेल नीलगाय मटमैले रंग का होता है खैर जो भी हो आज हम इनसे जुड़े रोचक तथ्य जानेंगे। तो चलिए जानते हैं।

अगर नीलगाय कद के बारे में बात करें तो इनका कद घोड़ा जितना होता है पर उसके शरीर का बनावट घोड़े से सामान संतुलित नहीं होती है ।उनका पीछे का भाग आगे के भाग से कम ऊंचा होते हैं और यह दौड़ते समय बहुत ही अजीब लगता है ।

केवल मेल के छोटे और नुकीले सिंग होते हैं जो लगभग 20 सेंटीमीटर लंबे हो सकते हैं ।

नीलगाय वैसे तो दिन में घूमने फिरने वाला जानवर है उनका सुनने और देखने की शक्ति काफी अच्छी होती है लेकिन सुनने की शक्ति बहुत ही ज्यादा कमजोर होता है ।

नील गाय को बैर और महए के फुल खाना बहुत ही ज्यादा पसंद होती है ।वैसे तो नील गाय घास चरती है और झाड़ियों के पत्ते भी खाती है मौका मिलने पर तो फसल भी खा जाती है ।

नीलगाय में सबसे अच्छी खासियत है कि वह चढ़ते समय बहुत ही सतर्क रहती है और वह जब भी जमीन पर सोने के लिए जाती है तो वह एक दूसरे के पीठ पर सेट कर सोती है। झुंड के कोई एक सदस्य हर दिशा देखता रहता है ताकि कोई खतरा ना हो।जैसे ही खतरा होता है तो वह आवाज लगाती है और वह समझ जाती है कि खतरा है और वहां से सब निकल जाता है ।

यह घोड़ा की तरह तेजी से काफी दूर तक दौड़ सकती है और यह घने जंगलों में कभी भी भूलकर नहीं जाती है। आधी ऊंचाई की डालियां पहुंचने के लिए अपने पिछले टांग का इस्तेमाल करती है ।

नीलगाय चाहे कितना भी गर्मी में हो। वह बर्दाशत कर लेती है और यह ज्यादा पानी नहीं पीती है क्योंकि वह भोजन से ही अपने पानी प्राप्त कर लेती है ।


वह खुले और शुष्क जंगल में रहना पसंद करती है जहां पर कम ऊंचाई की कटीली झाड़ियां मिलता हो। उस प्रदेश में उन्हें कोई शिकारी जानवर ना मार ले या फिर मारने की कोशिश करें तो उन्हें दूर से दिखाई दे दे और वहां से रवाना हो जाए। उस जगह पर रहना बहुत ही पसंद करती है ।

अगर इनका वजन की तरफ देखा जाए तो यह 200 किलो तक वजनी होती है। और कई बार तो इनका बाघ भी शिकार नहीं कर पाता है। कई बार तो इनका टक्कर से छोटी गाड़ी भी पलट जाती है।

अक्सर नीलगाय अपने छोटे बच्चे को सितंबर और अक्टूबर महीने में जन्म देती है। जब घास की ऊंचाई बहुत हो जाए जिससे वह अपने बच्चे को छुपा कर रख सके और अपने बच्चे को झुंड के सभी माताएं मिलकर पालती है ।

नीलगाय बहुत ही कम आवाज निकालती है परंतु माताएं भेस की तरह आवाज निकाल सकती है ।

नीलगाय बहुत सारे देशों में पाई जाती है जैसे भारत नेपाल बांग्लादेश । 2001 में इन की जनसंख्या भारत में करीब 10 लाख के आसपास था।

सबसे हैरान कर देंने वाली बात यह है कि नीलगाय किस प्रजाति का है अब तक सही से पता नहीं चल पाया है । बहुत सारे विज्ञानिकों ने रिसर्च किया पर यह किस प्रजाति का है यह कहना मुस्किल है लेकिन बहुततो का कहना है कि यह बिल्ली और गाय की प्रजाति है पर फिर भी यह तय नहीं हुआ है कि यह किस प्रजाति का है ।

नीलगाय बहुत ही शांत किस्म का जानवर है इसका मतलब यह नहीं कि इसे कोई भी जानवर आसानी से मार दे यह बहुत ही मजबूत होती है ।

नीलगाय अकेला रहना पसंद नहीं करती है वह जब भी रहती है तो झुंड के साथ ही रहती है और झुंड में ही चरती है।

दोस्तों नीलगाय से जुड़े रोचक तथ्य तो आपको कैसा लगा हमें कमेंट कर जरूर बताएं.





Post a Comment

2 Comments